रामनगर औद्योगिक क्षेत्र के उद्यमियों की बैठक

0
321

Varanasi News : रामनगर औद्योगिक क्षेत्र के उद्यमियों की बैठक रामनगर औद्योगिक एसोसिएशन के अध्यक्ष देव भट्टाचार्य के नेतृत्व में पूर्वांचल विधुत वितरण लिमिटेड,के प्रबन्ध निदेशक के साथ हुई, जिसमे विधुत से संबंधित समस्याओं को बहुत जोर-शोर से उठाया गया।

उधमी विधुत विभाग की कार्यशैली पर बहुत नाराज दिखे।

उद्यमियों ने रामनगर औद्योगिक क्षेत्र फेज-2 के 33/11 उपकेन्द्र की क्षमता वृद्धि की मांग किया और कहा कि पिछले एक वर्ष से इस उपकेंद्र पर एक 10 एम.बी.ए के ट्रांसफार्मर की मांग अधिशासी अभियंता, मुगलसराय और एसोसिएशन द्वारा किया जा रहा है, और चंदौली के माननीय सांसद डॉ महेन्द्रनाथ पाण्डेय जी व ऊर्जा मंत्री श्री ए.के.शर्मा ने भी पत्र के माध्यम से 10 एम.बी.ए के ट्रांसफार्मर को तत्काल लगवाने की बात कही, पर अभी तक कोई कार्यवाही नही हुई।

औद्योगिक क्षेत्र के उद्यमियों को न तो नये कनेक्शन दिये जा रहे है और न ही उनके लोड को बढ़ाया जा रहा है, जिससे उद्योगों का विकास थम गया है।
उधमी परेशान है, उद्योग बढ़ा नही पा रहे।
रामनगर औद्योगिक क्षेत्र फेज-1 के संजीव इंडस्ट्रीज के अरविन्द सिंह ने कहा कि उनका 100 के.वी.ए का कनेक्शन है और इसको 140 के.वी.ए करने हेतु 17.12.22 को ऑनलाइन अप्लाई कर फीस 1,97,282/- जमा भी कर दिया, परन्तु 6 माह के उपरान्त अभी तक लोड नही बढ़ा और हर माह पेनाल्टी लग रही है।
वरिष्ठ उपाध्यक्ष चंद्रेश्वर जायसवाल ने कहाकि औद्योगिक क्षेत्र फेज-1 के उद्यमियों को नये विधुत कनेक्शन जारी नही किये जा रहे और न ही लोड में वृद्धि की जा रही है, जबकि यहाँ स्थित पावर हाउस की लागत यूपीसीडा द्वारा भूमि की लागत के साथ जोड़ कर लिया गया है, इसलिए यूपीसीडा द्वारा आवंटित भूस्वामी/ उद्यमियों को नया कनेक्शन व लोड वृद्धि प्राथमिकता के आधार पर दिया जाये।
प्रकाश आयरन वर्क्स के प्रकाश जायसवाल ने कहा की उनकी फर्म को प्रदेश सरकार के सिंचाई विभाग ने जल जीवन मिशन योजना के अंतर्गत लगभग आधे प्रदेश का कार्य दिया है, और साथ मे अमेरिका की एक कंपनी द्वारा भी मशीन का ऑर्डर दिया गया है , निर्यात और प्रदेश सरकार के कार्य को सम्पन्न करने के लिये विधुत लोड जो अभी 48 के.वी.ए है इसको बढ़ा कर 125 के.वी.ए करने की आवश्यकता है, परन्तु काफी प्रयास के बाद भी लोड नही बढ़ पा रहा है।

भगवती एग्रो इंडस्ट्रीज के स्वामी अभिषेक बंसल ने कहा कि वे यूपीसीडा से अक्टूबर-22 में फेज-2 में भुखंड लिये है और 9 फरवरी में ही 275 केवीए का विधुत कनेक्शन लेने हेतु ऑनलाईन अप्लाई कर प्रोसेसिंग शुक्ल भी जमा कर दिया था, परन्तु अभी तक कनेक्शन नही मिल पाया, जिससे उद्योग नही लगा पा रहे, और यूपीसीडा का नियम है कि एक वर्ष के अन्दर उद्योग चालू कर देना है, ऐसे में क्या करे समझ मे नही आ रहा।

उधमी संजय लखवानी ने भी कहा कि उन्होंने अप्रैल माह में 80 केवीए कनेक्शन हेतु ऑनलाइन निवेश मित्र पोर्टल पर अप्लाई किया था, परन्तु अभी तक कनेक्शन जारी नही हुआ, जिससे वे उद्योग नही चालू कर पा रहे है।

ब्रिजलेक्स इंजिनीरिंग के विनम्र अग्रवाल ने कहा कि उनका 72 केवीए के लोड को बढ़ा कर 160 केवीए करने हेतु कई बार प्रतिवेदन दिया गया है, परन्तु अभी तक लोड नही बढ़ पाया है।
अल्टिमेक्स गुड्स प्राइवेट लिमिटेड के दीपक माहेष्वरी ने कहा कि उनका एक हजार केवीए का कनेक्शन है और बिजली की काफी कटौती हो रही है, जिससे उद्योग चलाना बहुत ही मुश्किल हो गया है

ऐसा तमाम उद्यमियों के साथ हो रहा है।

महामंत्री सतीश गुप्ता ने कहा कि तमाम उधमी विधुत कनेक्शन को लेकर बहुत परेशान है, वे अपने उद्योगों को चालू व बढ़ा नही पा रहे, एक तरह प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री जी उद्योगों को बढ़ाना चाहते है दूसरी तरफ विधुत विभाग का रवैया ठीक उलटा है, वे सिर्फ उद्यमियों को परेशान करने में लगे है।

प्रबन्ध निदेशक ने बहुत गंभीरता से सबकी व्यथा को सुना और तत्काल 10 एमबीए के ट्रांसफार्मर को लगवाने हेतु अधीनस्त अधिकारियों को निर्देशित किया, और सबके लोड बढ़ाने और नए कनेक्शन तुरन्त स्वीकृत करने का निर्देश भी दिया।
उद्यमियों में मुख्य रूप से ओम प्रकाश जायसवाल, हरिवंश सिंह , विनम्र अग्रवाल, राम सिंह रवि प्रकाश, संजय लखमानी, अजय राय, राकेश अग्रवाल, शिव जायसवाल, अरविंद सिंह, करुण पांडेय, रोहित जायसवाल , अनूप साहू, वीरेन्द्र यादव, अभिषेक बंसल, सहित भारी संख्या में उद्यमी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here